帖子

显示2019年5月的帖子

Loa隐藏的面孔 - 来了्षण के नियम का छुपा हुआ चेहरा

Image
      पिछले कुछ समय से आकर्षण का नियम अथवा आकर्षण का सिद्धांत काफी प्रसिद्धि बटोर रहा है | आकर्षण का नियम या फिर law ऑफ़ अट्रैक्शन तब सुर्ख़ियों में आया जब रोंदा ब्य्रेना नामक लेखिका की लिखी किताब और मूवी "十ीक्रेट " नाम से बाज़ार में आई | आप जान  कर हैरान रह जायेंगे की इस बुक में आपको सिर्फ सिमित जानकारी दी गयी है | निश्चित तौर पर इसमें दिए गये उपायों को आजमा कर  आप काफी कुछ पा सकते है पर क्या आप यह जानते है कि यह ब्रह्माण्ड का अकेला नियम नहीं है  |इसके साथ ही ११ नियम और है जो आपके निर्णय को और आपकी किस्मत को और आपके जीवन को कण्ट्रोल करते है | आइये जानते है आकर्षण के नियम की कुछ अनोखी बाते आकर्षण का नियम अथवा आकर्षण का सिद्धांत  हमेशा कार्य करता है , यानी की हर वो चीज जिसकी आपने दिल से ख्वाहिश करी है आकर्षण के नियम के अनुसार आपको दे दी जाएगी | यंहा तक की अगर इस जन्म में आपकी कोई ख्वाहिश पूरी नहीं हो पायी तो वो आपके आने वाले जन्म में पूरी हो जाएगी | और यदि आपने अपनी इक्छाओ या चाहतो  पर नियंत्रण करना ना सीखा तो  यही आकर्षण का नियम आपके अनंत जन्मो का कारण और अ

कौन है आपके इष्ट ?

Image
तो  सबसे पहले अपना एक इष्ट निश्चित कर लेना चाहिए- हर आदमी का अपना एक इष्ट होता है-होना चाहिए। इष्ट उसे कहते हैं कि जो नाना प्रकार के अनिष्टों को, दिक्कतों को, हर प्रकार के हमारे कष्टों को आपत्तियों को नष्ट करने में सर्मथ होता है। उसको इष्ट कहते हैं। वह तुम्हारा पूज्य होगा, तुम्हारा देवता होगा और उसके प्रति तुम्हारी अधिकतम श्रद्धा होनी चाहिए। यह अब आप निश्चित कर सकते हैं कि आप की श्रद्धा सबसे अधिक किसमें है उनमें राम, शिव, हनुमान, देवी, देवता, माता, पिता अथवा गुरु कोई भी हो सकते हैं या फिर स्वयं में  । यह आपको खुद निश्चित करना पडे़गा। जिसमें सबसे ज्यादा श्रद्धा और प्रेम हो, जिसे आप सबसे ज्यादा मानते हों वही आपका इष्ट है। तो जो नन्हा सा प्रेमी साधक है उसका सबसे पहला कर्तव्य है कि वो अपना इष्ट निश्चित करे, और अपनी उस नन्ही सी श्रद्धा को इधर-उधर के अन्य देवी देवता ,  अंधविश्वास और अधूरी मान्यताओं में समर्पित न करे। आप जितना भी श्रद्धा रूपी,प्रेम रूपी अपना भक्तिभाव ईश्वर को दान करना चाहते हैं,वह अपने इष्ट को दान करिये। ढूंढें इष्ट का एक अथवा ढाई अक्षर का एक नाम(आपका इष्ट मंत्र