कान्वेंट स्कूल के फंदे


मेरा बचपन  इलाहाबाद में बीता है | बचपन में अपने आसपास के बच्चों को 修道院 学校 में जाते देख मेरी भी इच्छा होती थी कि मेरी पढ़ाई हिंदी माध्यम की जगह अंग्रेजी माध्यम से हो |
 学校के बाद कॉलेज में a Z 英语教学大纲 से जब  पाला पड़ा तो अंग्रेजी माध्यम के विद्यार्थियों  की अपेक्षा हिंदी माध्यम से होने की वजह से मुझे अच्छी खासी परेशानी झेलनी पड़ी यह अलग बात है कि हमारी अंग्रेज़ी की नीव मज़बूत होने की वजह से  कॉलेज पूरा होते होते  हम अंग्रेजी के अभ्यस्त चुके थे |
 अपने अतिरिक्त जेब खर्च को पूरा करने के लिए हमने अपनी सहेली की सलाह पर एक औसत दर्जे के 修道院 学校में पढ़ाने की ठानी |  इस 学校 ke 管理 ने हमें 2 हजार रुपये मासिक वेतन देने की बात कही क्योंकि रिजल्ट आने में 1 माह का समय शेष था | हमने भी हामी भर दी |
 धीरे धीरे हमें इस 修道院学校के कुछ गुप्त नियम ज्ञात हुए जो निम्न वत है ---
1.  学校8:00 बजे सुबह शुरू होता है तो यदि शिक्षिका 8:30 眼睛ो उसके आधे दिन का वेतन कटेगा |
(到目前为止े जीवन में मैं  कभी भी कहीं भी लेटलतीफ नहीं हुई अतः मुझे इस नियम से कोई समस्या नहीं थी|)
2.  这一点学校में टीचर को साड़ी पहन कर आना अनिवार्य था | यदि वह सलवार सूट ,जींस पैंट में आती है तो इस 学校में ही उनके कपड़े बदलने की व्यवस्था है | परंतु पढ़ाना उन्हें साड़ी पहन कर ही है | (भारतीय नारी साड़ी में अपने सर्वोत्तम सौंदर्य में होती है यह मैंने तब सुना ही था  पर इस नियम को चरितार्थ होते मैंने यहां पर देखा और मुझे यह ज्ञान प्राप्त हुआ कि बच्चे तभी ध्यान से पढ़ते हैं जब उन्हें साड़ी पहनकर पढ़ाया जाए |)
फिलहाल मुझे एक हफ्ते सलवार सूट में पढ़ाने की इजाजत मिल गई क्योंकि मुझे साड़ी पहनी ही नहीं आती थी|( 21 वर्ष की उम्र में भला कौन सी लड़की साड़ी पहनने में परफेक्ट होती है) |
     मुझे बच्चों को अंग्रेजी 语法पढ़ाने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी यहां मैं खुश थी क्योंकि भले ही 修道院में मेरी पढ़ाई ना हुई हो पर मुझे 修道院学校में इंग्लिश 语法पढ़ाने की जिम्मेदारी इसलिए मिली क्योंकि मैंने 学校管理 से बात अंग्रेजी में की थी और उनके अपेक्षा ज्यादा सही वाक्यों का उपयोग किया था |
3.  मुझसे यह कहा गया , भले ही कक्षा में मैं बच्चों को कम पढ़ाऊँ पर  功课 दुगना तिगुना दूं | वजह बताई गई यदि मैं ऐसा करूंगी तो बच्चे घर में खेलने के बजाए 功课做े हुए मां बाप को दिखेंगे और अभिभावक यह सोचेंगे कि निश्चित ही 学校 में ज्यादा पढ़ाई होती है तभी बच्चा घर पर आकर पढ़ रहा है | अतः बच्चों को उनकी क्षमता से अधिक 功课 देना अनिवार्य है |
(yad.्यपि मेरा हृदय बच्चों के लिए द्रवित हो उठा परंतु अभिभावकों को उल्लू बनाने के इस अभियान पर  हंसी भी बहुत आई |)
4.  अंत में मुझे 标记 system सिखाया गया कि यदि बच्चा पढ़ाई में तेज है तो 95% से नीचे नहीं देना है यदि बच्चा औसत विद्यार्थी है तो 85 %Sे नीचे नहीं देना है और फेल हो सकने वाले विद्यार्थियों को 55% के ऊपर दे देना है वजह  यह बताइ गयी  कि जब बच्चा ज्यादा प्रतिशत पाता है तो मां-बाप समाज के समक्ष स्वयं को गौरवान्वित महसूस करते हैं और साथ ही साथ यह भी बताते हैं कि 学校में कितनी पढ़ाई होती है | क्योंकि वह बच्चों को 功课 में डूबे रहते हुए देखना पसंद करते हैं | इस प्रकार 学校学校का प्रचार प्रसार भी हो जाता है |


           学校 管理 ने शिक्षकों के वेतन को तीन स्तर पर बांटा  था और शिक्षिकाओं की भी तीन कैटेगरी बनाई थी --
1 - ुरानी 忠诚 教师 का ,जो कई सालों से 学校管理Bachche文Aankh Fodiके साथ पूर्ण सामंजस्य से पढ़ा रही थी|
- गुप्तचर 教师 का जिनका काम शिक्षा देने के साथ साथ  管理 को आसपास की शिक्षिका क्लास में क्या करती है क्या नहीं करती है ,इसकी खबर दिया करती थी और
३- नई शिक्षिकाएं वह जो उन्हें जो 学校के 管理 के विरुद्ध जा कर पढ़ाती थी |
         यह गुप्त नियम 学校管理 ने अपने विश्वनीय शिक्षिका द्वारा मुझे समझाया | स्वयं कहने का जोखिम को नहीं उठाना चाहते थे यद्यपि मुझे इन नियमो से आपत्ति थी पर मैंने यह सोचकर आपत्ति दर्ज नहीं करी क्योंकि मेरे मन में यह था कि भला क्लास में जाने पर अंदर बच्चों को कैसे पढ़ाना है यह मेरा काम है और मैं उन पर अत्याचार बिल्कुल भी नहीं करुंगी | आखिर मैं भी कभी बच्ची थी पर जल्दी 管理 को मेरे  बच्चों को अतिरिक्त कार्यभार ना डालने की खुराफात ज्ञात हो गई | 管理 ने अपने प्रबंध अनुसार कुछ गुप्तचर जो नियुक्त  कर रखे थे | जो अपनी कक्षा में पढ़ाई के साथ मेरे विषय और मेरी कार्यशैली की समीक्षा बच्चों से लेती रहती थी | सौभाग्य से बच्चों ने मुझे बेहतरीन शिक्षिका होने का सम्मान दिया फिर भी नियमों की अनदेखी करने पर मुझे चेतावनी 管理 ने दे ही डाली |
 मुझे यह फरमान  असहनीय प्रतीत हुआ और 15 दिन बाद मैंने 学校 जाने के बजाए घर पर बैठना उचित समझा | अपने नन्हे मासूम विध्यार्थ्यो से मुझे स्नेह था और उन नन्हे- नन्हे बच्चो को जिन्हें विद्यालय शिक्षक और प्रबंधक , मंदिर और देवी देवता  के भांति सम्माननीय है ,कैसे उनकी क्षमताओं को गलत दिशा दे रहे है यह मैं ना बता सकती थी ना ही उनके मासूम दिमाग को यह समझ में आने वाला था | सो १५ दिन तक  मेरे ज़मीर ने मुझे इतना बुरा भला बोल डाला के मैंने 学校 जाने की बजाय  घर पर रहना उचित समझा |
 फिर भी कुछ बच्चों के माता-पिता ने मेरा संपर्क ढूंढ निकाला और मुझे 学费 पढ़ाने को कहा | प्रत्येक  बच्चे  के लिए ₹2000 का  学费  | मुझे ऐसे चार विद्यार्थी मिले जिन्होंने मेरे अतिरिक्त खर्च को अति अतिरिक्त बना दिया | 学校का 8:00 से 1:00 बजे तक ₹2000 का …. 4 बच्चों का ₹8000......
 这一点ुभव ने मुझे सिखाया कि मेरे अभिभावक ज्यादा समझदार थे जो 修道院के झांसे में न आएं |
 Note-  लेखिका अज्ञात रहना पसंद करती है | यह उनके विचार और अनुभव है | यदि आपके 学校से जुड़े कोई अनुभव है तो कृपया ज़रूर साझा करे | -管理员


评论

发表评论

从这个博客热门职位

साँसे और आध्यात्मिकता(呼吸和灵性的管理)ार्ट - 1

罗亚的隐藏面 - 即将्षण के नियम का छुपा हुआ चेहरा